सुदर्शन चैनल के संपादक ने दिखाई संघी मानसिकता, तो लोगों ने दिया मुंहतोड़ जवाब

965

मीडिया एवं टीवी पत्रिकारिता के क्षेत्र में करियर बनाने के इच्छुक, अगर बेरोजगारी से जूझ रहे हैं तो सुदर्शन न्यूज चैनल उनके लिए रोजगार का मौका लेकर आया है। मगर वहां नौकरी करने के लिए एक अनिवार्य रिक्वायरमेंट धर्म भी है। सुदर्शन न्यूज चैनल में नौकरी के लिए आपकी योग्यता और अनुभव के अलावा आपका धर्म भी एक अहम मापदंड होगा और यह जानकारी खुद चैनल के संपादक ने दी है।

 

सुदर्शन न्यूज के संपादक सुरेश चव्हाणके ने चैनल के कई विभागों और क्षेत्रों में नई भर्ती होने की जानकारी अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए दी। उन्होंने एक फोटो शेयर की जिसमें रिपोर्टर, कैमरामैन, सेल्स मैनेजर पदों के लिए भर्ती के बारे में बताया गया है। साथ ही अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा, “सुदर्शन के साथ करियर करने का मौका।

 

इन शहरों में हमें चाहिए मिडीया & सेल्स स्टाफ़। अच्छी सैलरी और सुविधाओं के साथ राष्ट्र धर्म सेवा का मौक़ा।” इसी बीच सैफ मोहम्मद खान नाम के एक शख्स ने उनके ट्वीट पर कमेंट करके पूछा कि क्या मुस्लिम भी नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इस कमेंट के जवाब में सुरेश चव्हाणके ने “नहीं” का जवाब दे डाला।

सुरेश चव्हाणके के इस जवाब पर उन्हें सोशल मीडिया पर अब काफी आलोचना झेलनी पड़ रही है। कई लोग उनके इस जवाब की कड़ी निन्दा भी कर रहे हैं। वहीं कई लोगों ने उनके चैनल का भी मजाक बनाया। सुर्दशन न्यूज द्वारा अच्छी सैलरी की बात का भी कई लोगों ने अपने-अपने अंदाज में मजाक बनाया। बहरहाल, आप भी देखें सुरेश चव्हाणके के ट्वीट पर मचा बवाल।

सुरेश चव्हाण अक्सर विवादों में रह चुके हैं, अभी हाल ही में अल्का लांबा ने सुरेश चव्हाण को ट्रोल करते हुए वापस ट्वीट का जवाब दिया था। इस बार फिर से सुदर्शन चैनल के चीफ एडिटर ने अपनी घटिया मानसिकता का प्रदर्शन किया है। क्योंकि हमारे देश में ज्यादातर क्षेत्र में सभी हिंदू-मुस्लिम भाई साथ में रहकर ही काम करते आ रहे हैं। लेकिन इस तरह की संघी मानसिकता का प्रदर्शन करना हमारे देश और समाज के लिए बिलकुल भी सही नहीं है।

Our Sponsors
Loading...