RSS मुखिया मोहन भागवत का फरमान, बोले- गौरक्षकों को सरकार और सुप्रीम कोर्ट से डरने की ज़रूरत नहीं

201

धर्म के नशे में तथाकथित विकास के लिए आपने जो वोट डाले थे उसका नतीजा सामने आ चुका है। अब अगर आप पर कोई हमला करदे तो संसद और अदालत भी आपकी मदद नहीं कर पाएगी। क्योंकि धर्म के नाम पर भीड़ जुटाने वाले इन संवैधानिक संस्थाओं पर हावी हो गए हैं। वो इनको कुछ न मानते हुए अपने लोगों को इन संस्थाओं से न डरने की नसीहत दे रहे हैं

कट्टर हिंदूवादी संगठन आरएसएस के संघसंचालक मोहन भागवत ने कहा है कि गौरक्षकों को सरकार और सुप्रीम कोर्ट से डरने की ज़रूरत नहीं है।

शनिवार को एक दशेरा समारोह में भागवत ने कहा कि सभी गौरक्षकों को हिंसात्मक घटनाओं और साम्प्रदायिकता से जोड़ना गलत है।

अपनी अदालत और अपने फैसले की तरह भागवत ने कहा कि ये “स्पष्ट” है कि गौरक्षक हिंसा के कृत्यों में शामिल नहीं हुए हैं। भागवत ने कहा कि जो गतिविधि में पवित्रता से जुड़े हुए हैं उन्हें, सरकार या सुप्रीम कोर्ट से डरने की ज़रूरत नहीं है।

गौरतलब है कि पिछले कुछ सालों में गौरक्षा के नाम पर बहुत सी हिंसक घटनाओं और अपराधों को अंजाम दिया गया है। indiaspend के मुताबिक 2010 से अभी तक गौरक्षा के नाम 63 से ज़्यादा हमले हो चुके हैं जिसमें 28 लोगों की मौत हो चुकी है। इन हमलों में से 97% को 2014 के बाद अंजाम दिया गया है।

बता दे, कि हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने भी गौरक्षकों द्वारा किये जा रहे हमलों की आलोचना की थी और राज्य सरकारों को इनपर करवाई करने के लिए ज़िलों में नोडल ऑफिसर नियुक्त करने का आदेश दिया था।

Courtsey :  Bolta Hindustan, boltahindustan.com/cow-vigilante-should-not-fear-government-or-supreme-court-bhagwat/

Our Sponsors
Loading...