सब जनता का पैसा: मोदी ने मन की बात पर खर्च कर दिए 1100 करोड़

479

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता की भलाई के लिए “मन की बात” नाम का एक प्रोग्राम शुरू किया था, ताकि लोग मोदी तक अपने मन की बात पहुंचाकर अपनी समस्याओं का समाधान निकाल सकें। लेकिन मोदी देश की आम जनता का पैसा ऐसे बर्बाद कर रहें हैं कि आपको क्या बताएं। “मन की बात” के लिए मोदी ने 1100 करोड़ रुपए खर्च किये थे। यह पैसा मोदी ने सिर्फ विज्ञापन पर खर्च किया है। वहीं, जब केजरीवाल ने विज्ञापन पर पैसा खर्च किया तो मोदी उसे करप्शन बता रहें हैं।

केजरीवाल ने शुरू किया था ‘Talk To AK’
पीएम मोदी के मन की बात के तर्ज पर अब केजरीवाल भी लोगों से बात करने का मन बना चुके हैं। केजरीवाल ने पीएम के तर्ज पर जनता से सीधे जुड़ने के लिए ‘Talk To AK’ नाम से खास कैंपेन शुरू करने का फैसला किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रेडियो पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रम ‘मन की बात’ की तर्ज पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी अब जनता से सीधे जुडऩे के लिए ‘Talk To AK’ नाम से एक खास कैंपेन शुरू करने जा रहे हैं। इसमें केजरीवाल लाइव वीडियो के जरिए लोगों से बात करेंगे। इस खास कैंपेन की शुरुआत 17 जुलाई को सुबह 11 बजे होगी। इसके लिए खास तौर पर www.talktoak.com बनाई गई है।

 

बताया जा रहा है कि लोग फोन कॉल, मैसेज और सोशल मीडिया के जरिए मुख्यमंत्री से सीधे सवाल कर सकेगी। इसके लिए फोन नंबर और एसएमएस नंबर भी जारी किया जाएगा। अरविंद केजरीवाल 17 जुलाई को सोशल मीडिया, फोन काल और टेक्स्ट मैसेज के जरिए लोगों से एक संवादात्मक सत्र का आयोजन करेंगे। केजरीवाल हर महीने ऐसे ही जनता के साथ संवाद करने की कोशिश करेंगे।

मन की बात पर मोदी ने खर्चे 1100 करोड़ रुपए
कांग्रेस ने कहा है कि ये विज्ञापनों की सरकार है। विज्ञापन को लेकर बीजेपी अक्सर दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार की घोर आलोचना करते हैं। यह भी सही है कि किसी ने 500 करोड़ से अधिक का बजट नहीं सुना था, इसलिए भी लोगों में नाराज़गी बढ़ी लेकिन क्या किसी को पता है कि केंद्र के इन विज्ञापनों पर कितने खर्च हुए। पता चले तब तो हंगामा हो कि कितना पैसा खर्च हुआ।

आम पार्टी पार्टी के नेता और मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जब अपने घर आए अख़बारों के पहले पन्ने पर मोदी ही मोदी देखा तो उन्हें लगा कि इज़ इक्वल टू करने का मौका है। उन्होंने झट से ट्वीट किये और पट से चैनलों पर चल भी गए। ट्विट पर मुख्यमंत्री कहते हैं कि मोदी सरकार दो साल की सालगिरह के कार्यक्रम पर 1100 करोड़ रुपये से ज़्यादा ख़र्च कर रही है। जबकि दिल्ली सरकार के सभी विभागों का सालाना विज्ञापन खर्च 150 करोड़ से भी कम है।

 Courtsey : Deshyug.com
deshyug.com/modi-is-corrupt-and-wasting-money-of-indian-people/
Our Sponsors
Loading...