मोदी सरकार ने साफ कर दिया कि म्यांमार में हिन्दू-मुस्लिम नरसंहार पर कोई मदद नहीं मिलेगी

155

भारत की केन्द्र सरकार के मंत्री मुख़तार अब्बास नक़वी ने कहा कि म्यांमार से भाग कर आने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को कोई भी राहत देना सरकार के लिए बहुत कठिन होगा।

पटना में एक बैठक में बोलते हुए नक़वी ने कहा कि यह मुद्दा सुप्रीम कोर्ट में है और सरकार भी इसे देख रही है लेकिन जब उनके राष्ट्र ने ही उन्हें स्वीकार करने से इंकार कर दिया है तो मैं नहीं समझता कि हम रोहिंग्या मुसलमानों को कोई भी राहत दे पाएंगे।

रोहिंग्या शरणार्थियों को बाहर निकालने के सरकार के फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने गत 4 सितम्बर को सरकार के पक्ष के बारे में पूछा और अगली सुनवाई 11 सितम्बर को होगी।

मलेशिया का कहना है कि जनसंहार रुकवाने के लिए म्यांमार पर दबाव बनाया जाए। निर्दोष रोहिंग्या मुसलमानों पर किये जाने वाले अत्याचारों पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मलेशिया का कहना है कि इन अत्याचारों को रुकवाने के लिए म्यांमार की सरकार पर दबाव डाला जाए।

ह्यूमन राइट्स वॉच के सदस्य अक्षय कुमार ने कहा कि हमारी संस्था को मिलने वाले सबूत म्यांमार सरकार द्वारा रोहिंग्या मुसलमानों पर किए जाने वाले भयावह अपराधों को दर्शाते हैं।

अक्षय कुमार ने इस बात का उल्लेख करते हुए कि म्यांमार के राख़ीन प्रांत के रोहिंग्या मुसलमान वर्षों से जारी संगठित अपराध, हिंसा और भेदभाव का शिकार हैं कहा कि म्यांमार की सेना और बौद्ध चरमपंथियों के हमलों में मारे गए और बेघर होने वालों की रोहिंग्या मुसलमानों की संख्या चिंताजनक सीमा पर पहुंच गई है।

ह्यूमन राइट्स वॉच के सदस्य ने कहा कि उपग्रह और अन्य विश्वसनीय स्रोतों से प्राप्त चित्रों और समाचारों की समीक्षा से यह सिद्ध होता है कि राख़ीन प्रांत में 22 से अधिक क्षेत्रों को पूरी तरह जलाकर राख कर दिया गया है।

ह्यूमन राइट्स वॉच के सदस्य अक्षय कुमार ने नोबेल पुरस्कार विजेता आंग सान सू ची से, जो म्यांमार की विदेश मंत्री और सरकार की वरिष्ठ सलाहकार हैं मांग की है कि वह रोहिंग्या मुसलमानों पर हो रहे अत्याचारों को जल्द से जल्द रुकवाने की कोशिश करें।

इस बीच, यमन के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन अंसारूल्लाह के प्रमुख ने कहा है कि म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमानों के ख़िलाफ़ हो रहे हमलों में अमेरिकी और इस्राईली हथियारों का प्रयोग किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अमेरिका और इस्राईल मिलकर पूरे इस्लामी जगत को अपना ग़ुलाम बनाना चाहते हैं।

Our Sponsors
Loading...