गुजरात में मोदी को अपनी हार का डर कैसे सताने लगा, कार्यकर्ताओ को लगे फोन करने

245

गुजरात में चुनाव में सूपड़ा साफ़ होने के डर से प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात वडोदरा के एक छोटे-से दुकानदार को फोन किया। पीएम ने पार्टी कार्यकर्त्ता गोपालभाई गोहिल और उनके परिवार को दिवाली की शुभकामनाएं दीं। मोदी ने काफी देर तक फोन पर गोपालभाई से बात की।

        Loading…

19 अक्तूबर की शाम करीब 4:30 बजे जब मोदी ने गोपालभाई के मोबाइल पर फोन किया, तब वह दिवाली की तैयारियों में लगे थे और इस तरह अचानक पीएम का फोन आने पर हैरान रह गए। पीएम मोदी और गोहिल के बीच की बातचीत का ऑड‍ियो क्लिप व्हाट्सऐप पर वायरल हो गया है। पर कार्यकर्त्ता हैरान क्यों हैं और न इसमें हैरानी को कोई बात है क्योकि गुजरात में बीजेपी की हवा निकल चुकी है हार्दिक पटेल जिग्नेश मेवानी और अल्पेश ठाकोर ने बीजेपी का पूरा काम लगा दिया. जनता की समस्याए हल नहीं होंगी तो युवा लोग आगे आयेंगे ही और ये देश के लिए बहुत शुभ है कि पढ़े लिखे लोग राजनीति में आ रहे हैं अब ये तो तय है आने वाले दिनों में देश की कमान युवा नेतृतव में ही होगी तभी देश चलेगा जुमलेबाजो के वश में नहीं है.

पीएम मोदी ने करीब 10 मिनट तक गोहिल और उनकी पत्नी से बातचीत की। दोनों ने गुजराती में बात की। दोनों के बीच राजनीति और विधानसभा चुनाव को लेकर भी बात हुई। गोपालभाई ने मोदी को बताया कि वे अपनी पत्नी के साथ खांदेराओ मार्केट में व्रज सिद्धि टावर के पास स्टेशनरी की दुकान चलाते हैं। दोनों की बात का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

गोपालभाई ने एक न्यूज चैनल को बताया कि वे सितंबर 2011 में पीएम के ‘सदभावना व्रत’ के दौरान उनसे मिले थे तब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। इसके बाद गोहिल ने साल 2014 में वडोदरा में लोकसभा चुनाव के दौरान नरेंद्र मोदी के लिए प्रचार किया था।

गोपालभाई ने कहा कि वे मोदी के साथ इस अचानक हुई बातचीत को लेकर काफी खुश हैं और यह अविस्मरणीय है। उन्होंने कहा कि पीएम अपने किसी भी कार्यकर्त्ता को नहीं भूलते हैं, चाहे फिर वो कोई बड़ा कार्यकर्त्ता और या छोटा यही उनकी सबसे अच्छी बात है। उल्लेखनीय है कि बुधवार को ही गुजरात चुनावों की तारीखों का ऐलान हुआ है। यहां दो चरणों में चुनाव होने हैं। 9 और 14 दिसंबर को गुजरात चुनाव होने हैं और वोटों की गिनती 18 दिसंबर को होगी।

Our Sponsors
Loading...