BJP सरकार में बेबस किसान, राजस्थान में किसानों ने जबरन खेत छीने जाने पर जमीन समाधि ली

167

एक कृषि प्रधान देश में हम कैसे भारत की उम्मीद करते है। ऐसी की जहां किसानों के साथ नाइंसाफी न हो सरकार उन्हें पूरी मदद दे। मगर राजस्थान में तो मामला ही दूसरा है।

जयपुर में गांधी जयंती पर अपनी जमीन बचाने के लिए जयपुर के लोगों ने जलसमाधि की तरह जमीन समाधि ले ली है। 22 किसानों का आरोप था कि वसुंधरा सरकार ने उनकी खेती की ज़मीन लेकर उसपर कालोनी बनाने की योजना है।

दरअसल जयपुर सीकर हाइवे पर जयपुर विकास प्राधिकरण की आवासीय योजना को लेकर है किसान यहां सामाधि लिए हुए हैं। वसुंधरा सरकार किसानों की खेती की जमीन लेकर कॉलोनी बसाने जा रही है। जिन किसानों को सरकार ने अपनी जमीनें सरेंडर करने के लिए नोटिस थमाया है वो अब विरोध करने के लिए जमीन समाधि ले रहे हैं। कई किसानों ने तो खुद को गर्दन तक जमीन में गाड़ रखा है।

नोटिस के बाद किसानों में गुस्सा बढ़ता चला जा रहा है। किसानों के कहा कि अगर सरकार नहीं मानी तो अभी सिर्फ 22 किसानों ने अपना गुस्सा जाहिर किया है ज़रूरत पड़ी तो 22 सौ किसान जमीन समाधि लेंगें। हालात बिगड़ते देख सरकार ने मौके पर पुलिस लगा दी है।

किसानों के ज़मीन आन्दोलन से जुड़े जमीन बचाओ संघर्ष समीति के अध्यक्ष नरेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि जब तक राजे सरकार हमारी ज़मीन नहीं लौटाई हम तब तक जमीन गड़े रहेगें।

उधर जयपुर विकास प्राधिकरण ने करीब 1350 बीघा में कॉलोनी काटने के लिए किसानों की जमीन लेने के लिए नोटिस थमाया है। जिसमें मुआवजा नहीं लेने वाले किसानों के पैसे कोर्ट में जमा करवाकर बेदखली शुरु कर दी है जिसके खिलाफ किसान आंदोलित हैं।

गौरतलब है कि मौके पर पहुंचे एडिशनल डीसीपी रतन सिंह मौके पर पहुंचे और किसानों की समस्या सुनी और किसानों को बताया कि आपकी समस्या पुलिस प्रशासन के उच्चाधिकारियों को बताई जाएगी और जेडीए के अधिकारियों को आपकी समस्या से अवगत कराया जायेगा।

Via: Bolta Hindustan

boltahindustan.com/rajasthan-farmers-protest-against-vasundhra-govt/

Our Sponsors
Loading...