देश यूपी: युवाओं को अनपढ़ बनाने की तैयारी, शिक्षा बजट 2,742 करोड़ से घटाकर किया 272 करोड़

619

लखनऊ। योगी सरकार का पहला बजट पेश किया जा चुका है जिसमें शिक्षा के बजट में भारी कमी की गई है। फाइनेंशियल एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, योगी सरकार ने उच्च माध्यमिक शिक्षा के लिए पेश किए बजट में अखिलेश सरकार के पिछले साल के बजट की तुलना में 9,414 करोड़ की कटौती की है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि जहां पिछले साल (2016-17) के बजट में अखिलेश सरकार ने माध्यमिक शिक्षा के लिए 9,990 करोड़ के बजट की प्रावधान किया था वहीं इस साल योगी सरकार ने सिर्फ 576 करोड़ का बजट पेश किया है।

 

खास बातें-

  1. योगी सरकार के पहले बजट में शिक्षा बजट में भारी कटौती
  2. माध्यमिक शिक्षा में 9,414 करोड़ की कटौती
  3. उच्च शिक्षा में 2,469 करोड़ की कटौती
  4. लैपटॉप की भी कोई व्यवस्था नहीं

इसके अलावा भाजपा ने अपने चुनावी वादे में प्रतिभाशाली छात्रों को मुफ्त लैपटॉप देने की बात कही थी। लेकिन यूपी के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने जो बजट प्रस्तुत किया उसमें मुफ्त लैपटॉप का कोई जिक्र तक नहीं था।

 

उच्च शिक्षा क्षेत्र में भी इस वर्ष बड़ी कटौती देखी गई। जहां पिछले साल उच्च शिक्षा के लिए अखिलेश सरकार ने 2,742 करोड़ रुपए जारी किए थे वहीं इस साल आश्चर्यजनक रूप से 2,469 करोड़ रुपए की कटौती करके सिर्फ 272 करोड़ रुपए जारी किए हैं।

 

इसके अलावा पिछली समाजवादी पार्टी सरकार ने उत्तर प्रदेश में बच्चों को बैग तथा अन्य अध्ययन सामग्री दिया था। पिछले साल समाजवादी पार्टी सरकार ने कक्षा एक से आठ तक के छात्रों के लिए 1.8 करोड़ बैग बांटे थे। यहां तक कि अखिलेश सरकार ने बच्चों को खाने की प्लेट भी वितरित की थी।

 

यूपी चुनाव के पहले बीजेपी ने अपने ‘लोक कल्याण संकल्प पत्र’ यानि चुनावी घोषणा पत्र में यूपी की जनता के लिए खूब लोक लुभावन वादे किए थे। बीजेपी ने युवाओं, किसानों, मजदूरों, छात्रों आदि को लुभाने के लिए अपने घोषणा पत्र में ढेर सारी योजनाएं लाने की बात कही थी। लेकिन योगी सरकार के पहले बजट के साथ योगी सरकार का छात्र विरोधी चेहरा सामने आ गया है।

Our Sponsors
Loading...