बाल तस्करी मामले में सीआईडी ने की रूपा गांगुली से पूछताछ

382

पश्चिम बंगाल सीआईडी ने जलपाईगुडी बाल तस्करी मामले में आज यहां भाजपा की राज्यसभा सदस्य रूपा गांगुली से पूछताछ की। सीआईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। एजेंसी के अधिकारियों का एक दल भाजपा की महिला इकाई की पूर्व महासचिव जूही चौधरी से कथित मुलाकात पर पूछताछ के लिए रूपा गांगुली के दक्षिणी कोलकाता स्थित घर गया। जूही इस मामले में आरोपी हैं और जेल में हैं। एजेंसी के अधिकारियों ने रूपा गांगुली से दो घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की।

 

अपराध अनुसंधान शाखा सीआईडी ने इस साल बाल तस्करी के एक गिरोह का पर्दाफाश किया था जो गोद लेने के अवैध सौदों के जरिए शिशुओं और बच्चों को कथित रूप से बेचता था। कुछ विदेशियों को भी बच्चे बेचे जाते थे। एजेंसी के एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि रूपा गांगुली से पूछताछ करने वाले अधिकारी भाजपा सांसद के जवाब से संतुष्ट नहीं हैं और वे उनसे एक बार फिर पूछताछ करने पर विचार कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, उन्होंने जो जवाब दिया है, उससे हमारे अधिकारी संतुष्ट नहीं हैं। वे अगले सप्ताह कभी उनसे एक बार फिर पूछताछ कर सकते हैं। रूपा ने बाद में संवाददाताओं से कहा, वे मामले को सुलझाने तथा स्थिति को समझने के लिए कुछ सवाल पूछना चाहते थे। मैं जो जानती थी, मैंने उन्हें बता दिया। मेरे खिलाफ कोई आरोप नहीं है। यह राजनीतिक प्रतिशोध है। मैं यह पहले दिन से कह रही हूं। वे मेरा समय बर्बाद कर रहे हैं।

राज्य में भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ झूठे मामले दर्ज किए जाने का आरोप लगाते हुए राज्यसभा सदस्य ने कहा कि वह समझती हैं कि चौधरी दोषी नहीं है। राज्य सीआईडी ने इसी मामले में पूछताछ के लिए भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय तथा दो अन्य नेताओं को भी समन भेजा था। सीआईडी ने बच्चों की तस्करी के आरोपों के तहत दार्जिलिंग में एक बाल सुरक्षा एजेंसी के प्रमुख और बाल कल्याण समिति के एक सदस्य समेत कई लोगों को गिरफ्तार किया है।

 

ये गिरफ्तारियां जलपाईगुडी शहर में बिमला शिशु गृह में बच्चे को गोद देने के नाम पर तस्करी करने वाले गिरोह की जांच के बढ़ते दायरे का हिस्सा हैं। मामले में जूही चौधरी और बाल गृह की वरिष्ठ अधिकारी सोनाली मंडल, गृह की अध्यक्ष चंदना चक्रवर्ती और उसके भाई मानस भौमिक को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है।

उन पर इन झूठे दावों के आधार पर विदेशियों को एक से 14 साल के करीब 17 बच्चों को बेचने का आरोप है कि इन बच्चों को जरूरतमंद लोगों को जांच-परख कर और नियम-कायदों का पालने करने के बाद कानूनी तौर पर गोद लेने के लिए सौंपा गया है। सीआईडी ने गत वर्ष नवंबर में उत्तर 24 परगना जिले के बदुरिया इलाके, कोलकाता के दक्षिणी हिस्से में बेहाला तथा दक्षिण बंगाल के कुछ अन्य हिस्सों में बाल गृहों तथा नस•िग होम पर छापेमारी के दौरान बाल तस्करी गिरोह का भंडाफोड़ किया था।

Our Sponsors
Loading...