अमेरिका ने मानी गलती कि पाकिस्तान को मदद देना बेवकूफ़ी, पर मोदी जी अब भी पाकिस्तान का केक खा रहे हैं

164

मोदी जी पाकिस्तान के पीएम की मा के लिये भले ही आम की पेटिया भेजे शाल और सूरत की साड़ी भेजे बिना बौराये नवाज शरीफ के जनमदिन मे पहुंच कर केक खाते रहे पर अमेरिका ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखा दी है।

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान को धोखेबाज़ और झूठा करार देते हुए कहा है कि पिछले 15 सालों में पाकिस्तान को अरबों डॉलर की सहायता दी गई और ये मूर्खतापूर्ण फैसला था.

ट्रंप ने सोमवार को ट्वीट कर कहा, ” अमरीका ने पिछले 15 सालों में पाकिस्तान को 33 अरब डॉलर से ज्यादा की मदद दी और उसने बदले में झूठ और छल के सिवाय कुछ नहीं दिया. वह सोचता है कि अमरीकी नेता मूर्ख हैं. हम अफ़ग़ानिस्तान में जिन आतंकवादियों को तलाश रहे हैं, उन्होंने उन्हें पनाह दी. अब और नहीं.”

ट्रंप का यह ट्वीट इसलिए भी पाकिस्तान के लिए एक कड़ी चेतावनी है क्योंकि हाल ही में अमरीकी उपराष्ट्रपति ने काबुल में कहा था कि अमरीका ने पाकिस्तान को नोटिस पर रखा है.

पाकिस्तान का जवाब

इसके जवाब में पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख़्वाजा आसिफ़ ने अपने ट्वीट में कहा है कि हम जल्द ही राष्ट्रपति ट्रंप के ट्वीट का जवाब देंगे. उन्होंने कहा, “हम दुनिया को सच बता देंगे. तथ्यों और कल्पना के बीच का फ़र्क़ बता देंगे.”

ये पहला मौका नहीं है जब राष्ट्रपति ट्रंप ने पाकिस्तान की आलोचना की है।

सुरक्षा नीति में भी अमेरिका ने पाकिस्तान को चेतावनी दी

हाल ही में अमरीकी राष्ट्रपति की ओर से जारी की जाने वाली राष्ट्रीय सुरक्षा नीति में कहा गया था, “हम पाकिस्तान पर आतंकवादियों को ख़त्म करने के लिए जारी प्रयासों में तेज़ी लाने का दबाव डालेंगे क्योंकि किसी भी देश का आतंकवादियों और उनके समर्थकों के लिए कोई योगदान नहीं हो सकता है.”

अमरीका की ओर से कहा गया है कि ‘पाकिस्तान के अंदर से काम करने वाले आतंकवादियों और चरमपंथियों से अमरीका को ख़तरा है.”

माइक पेंस की भी चेतावनी

पाकिस्तानी और अमरीकी अधिकारी

अमरीका की इस सुरक्षा नीति के सामने आने के बाद अमरीका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने अपनी अफ़ग़ानिस्तान यात्रा के दौरान पाकिस्तान से एक बार फिर कहा था कि वो अफ़ग़ानिस्तान की सरकार के ख़िलाफ़ लड़ने वाले समूहों को सुरक्षित ठिकाने मुहैया न कराए।

उनका कहना था कि ‘पाकिस्तान ने एक लंबे अर्से तक तालिबान और अन्य चरमपंथी समूहों को सुरक्षित ठिकाने मुहैया कराए हैं और अब वो समय बीत चुका है।

अमरीकी उपराष्ट्रपति के इस बयान की पाकिस्तान ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी. पाकिस्तान की ओर से जारी बयान में कहा गया था कि उपराष्ट्रपति का ये बयान अमरीकी प्रशासन के साथ होने वाली गहन बातचीत के ख़िलाफ़ है और सहयोगी दल एक दूसरे को चेतावनी नहीं देते हैं.

साभार बीबीसी

        Loading…

Our Sponsors
Loading...