बिहार में अब बीजेपी से फिर गठबंधन तोड़ेगे नीतीश ?

667

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए धर्म संकट खड़ा हो गया है। ऐसा लग रहा है कि अगर वो अपने नैतिक मूल्यों पर अड़े रहे तो, फिर से बीजेपी से गठबंधन तोड़ने की नौबत आ पड़ेगी और गठबंधन में बने रहे तो विपक्ष उनकी नैतिकता पर सवाल खड़े कर नाक में दम करती रहेगी।

जिस वजह से नीतीश कुमार की नैतिकता पर सवाल उठाते हुए गठबंधन तोड़ने के लिए उन्हें ललकारा जा रहा है वो वजह कुछ वैसी ही है जब कुछ महीने पहले नीतीश कुमान ने राजद कांग्रेस के साथ किया गठबंधन तोड़ा था और NDA के खेमें में वापस आये थे।

दरअसल बिहार बीजेपी के फायरब्रांड नेता केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह पर पटना व्यवहार न्यायालय के आदेश पर दानापुर थाना मे कांड संख्या 54/2018 के तहत FIR दर्ज की गई है। इसमें गिरिराज सिंह को करीब 2 एकड 56 डिसमिल जमीन पर जबरन कब्ज़ा करने के मामले में आरोपी बनाया गया है। इधर गिरिराज सिंह को आरोपी बनाया गया उधर तेजस्वी यादव को नीतीश कुमार पर आरोप लगाने का मौका मिल गया।

ट्वीट कर तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर दनादन तीन जहर बुझे सवाल दाग दिये।

तेजस्वी यादव ने तंज भरे लहजे में लिखा कि नीतीश जी, आपकी नाक के नीचे आपके दुलारे सहयोगी दल के वरिष्ठ नेता और आपके प्यारे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने लगभग 3एकड़ गरीबो की जमीन पर जबरन कब्ज़ा कर लिया है। ये बताने के बाद तेजस्वी यादव ने तीन सवाल पूछा पहला कि क्या आप अब गठबंधन तोड़ेंगे? दूसरा सवाल तेजस्वी ने पूछा कि क्या आप इस्तीफ़ा देंगे अंतरात्मा बाबू? और फिर तीसरा सवाल पूछा की अब कहाँ पानी भर रही है आपकी नैतिकता?

बता दें की महागठबंधन तोड़ने के पीछे की वजह राजद सुप्रीमों लालू यादव के लाल पर जमीन को लेकर फर्जीवाड़ा करने के आरोप लगने के बाद जब मामले ने तूल पकड़ा था तब नीतीश कुमार ने नैतिकता और अंतरआत्मा की आवज को भी इस्तिफा देने की वजह बताई थी। जिकसे बाद से ही राजद नेता उन्हें पलटू राम, नैतिकता कुमार और अंतरआत्मा बाबू जैसे उपनामों से तंज करते रहे हैं।

एक बार फिर से मामला जमीन से जुड़ा है और आरोप बीजेपी नेता पर लगा है तो तेजस्वी ने पिछली घटना को लेकर ये सवाल खड़े कर दिये। इतना ही नहीं मौका सही देख तेजस्वी यादव ने उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को भी नहीं बख्शा।

अगली ही ट्वीट में तेजस्वी यादव ने लिखा कि देश के सबसे बड़े अफ़वाह मियाँ और ख़ुलासा मास्टर सुशील मोदी के मुँह में दही जम गया है। उनके आका नीतीश कुमार बंगले पर बंगले लिए जा रहे है।उनके परम सहयोगी केंद्रीय मंत्री गिरीराज गरीबों की जमीन कब्ज़ा रहे है। सुशील मोदी इन मुद्दों पर बिल में घुस गए है। कहाँ छुप रहे हो ख़ुलासा मियाँ?

याद दिला दें की महागठबंधन में दरार की वजह सुशील मोदी का खुलासा ही बताया जाता है। तब विपक्ष में मौजूद सुशील मोदी लालू परिवार को लेकर लगातार जमीन से जुड़े कुछ नये खुलासे करते हुए आरोप लगाया करते थे।

लगे हाथ तेजस्वी ने प्रधानमंत्री मोदी को भी सवालों के घेरे में ले लिया



तेजस्वी ने लिखा प्रधानमंत्री @narendramodi जी, क्या आपकी सरकार इसी ईमानदारी की बात करती है जहाँ गरीबों को घर देने की बजाय आपके कैबिनेट मंत्री गरीबों की जमीन पर ही कब्ज़ा कर रहे है? कृपया आप अपने स्तर से मामले को देखना क्या पता ये मंत्री महोदय कहीं उन गरीबों को ही पाकिस्तान भेजने की बात करने लगे

अब देखने वाली बात ये होगी की जिस आधार पर नीतीश कुमार ने महागठबंधन से किनारा किया था उसी आधार पर तेजस्वी यादव नीतीश कुमार को फैसला लेने के लिए उकसाते नजर आ रहे हैं। इस बार फर्क सिर्फ इतना है कि लालू के लाल पर जब आरोप लगे थे तो वो नीतीश सरकार में मंत्री थे, लेकिन गिरिराज सिंह का बिहार सरकार से कोई सीधा सरोकार नहीं है।

        Loading…

Our Sponsors
Loading...