45 दिनों में गंगा की सफाई का दावा करने वाली उमा से 3 साल बाद सफाई की इस्थिति पूछा तो भड़क पड़ी

6435

कानपुर। गंगा की सफाई पर पूछे गए एक सवाल पर केंद्रीय मंत्री उमा भारती बुरी तरह भड़क उठीं। उन्होंने तिलमिलाते हुए जवाब दिया। संयासन मंत्री उमा भारती का यह रूप देख सभी दंग रह गए। कभी 45 दिनों में गंगा की सफाई का दावा करने वाली उमा भारती एक प्रेस कांफ्रेस में गंगा सफाई पर बात करने पर भड़क गई। मंत्री बनने के बाद जब वह पहली बार कानपुर आईं थी तो उन्होंने कहा था कि गंगा में मिलने वाले सभी नाले 45 दिनों में टेप कर दिए जाएंगे। जल्द ही गंगा की स्वच्छता और निर्मलता सुनिश्चित की जाएगी।

यूपी के कानपुर में बुधवार को उनसे जब उस वादे के बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि बच्चा भी पैदा होते ही नहीं चलने लगता है. आप तो चाहते हैं कि बच्चा 15 दिन में ही चलने लगे. जब कानपुर के नाले टेप होंगे तो आपको पता चल जाएगा.
उमा के बयान को लेकर स्थानीय लोगों ने भी नाराजगी जताई. उनका कहना था कि नेता अकसर अपने वायदे भूल जाते है. मंत्री जी को तो अपना वायदा याद रखना चाहिए जो उन्होंने इसी सरसैया घाट पर कहा था.
केंद्र ने गंगा नदी को साफ करने की परियोजना ‘नमामि गंगे’ के मद में 2000 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि आवंटित की है. मोदी सरकार ने पिछले तीन साल में ‘नमामि गंगे योजना’ के अंतर्गत करोड़ों रुपए खर्च किए. तमाम योजनाएं बनाई गई, लेकिन कुछ भी खास हल नहीं निकला. इस वजह से स्थानीय लोगों में अब हताशा और निराशा दिखने लगी है.
Our Sponsors
Loading...