45 महीने में एक प्रेस कांफ्रेस ना करने वाले ‘प्रधानमंत्री’ ने फेक़ न्यूज और फिरौती मांगने वाले ‘पत्रकार’ को इंटरव्यू दे दिया है : प्रशांत भूषण

541

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार रात टीवी न्यूज़ चैनल ज़ी न्यूज़ को साल का पहला इंटरव्यू दिया। ज़ी न्यूज़ की छवि भाजपा समर्थित समाचार चैनल की है। खासकर इंटरव्यू लेने वाले सुधीर चौधरी को उसी तरह देखा जाता है। उनपर अक्सर भाजपा समर्थन और फेक न्यूज़ देने के आरोप लग चुके हैं।

इस इंटरव्यू में पीएम मोदी ने राजनीति, अर्थव्यवस्था, अंतरराष्ट्रीय मसलों से लेकर कूटनीति और रोजगार तक के मुद्दों पर बातें करते हुए नज़र आये, मगर लोग इस इंटरव्यू से संतुष्ट नहीं हैं और जमकर उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रोल कर रहें हैं।

बता दें कि देश में इन दिनों काफी बड़े और संगीन मुद्दे सामने आये है, जैसे भीमा कोरेगांव हिंसा का मामला, एफडीआई 100% हो जाना, बेरोजगारी, आलू किसानो का प्रदर्शन, सुप्रीम कोर्ट के जजों का सुप्रीम कोर्ट को लेकर खुलासा या फिर वीएचपी नेता प्रवीण तोगड़िया का मोदी पर सीधा आरोप, प्रधानमंत्री ने एक बार भी प्रेस कांफ्रेंस कर के इन मुद्दों पर अपना बयान नहीं दिया है।

अगर आकड़ों के हिसाब से देखा जाए तो प्रधानमंत्री ने पिछले 45 महीने में एक बार भी मीडिया से रूबरू होकर अपना पक्ष नहीं रखा हैं। मगर कल एक भाजपा समर्थक समाचार चैनल पर जाकर उन्होंने 1 घंटा लम्बा इंटरव्यू दे दिया। और ताजुब की बात ये है कि इतने लंबे इंटरव्यू में प्रधानमंत्री ने बताये गये किसी भी मुद्दे पर खुल के विचार नहीं दिया। प्रधानमंत्री सवालों को टालते हुए दिख रहें थें।

प्रधानमंत्री के इस इंटरव्यू पर वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने ट्वीट करते हुए कहा है कि, “मोदी ने जब 45 महीने के कार्यकाल में एक भी प्रेस कांफ्रेंस नहीं किया और फेक न्यूज़ करने वाले लुटेरे सुधीर चौधरी के ज़ी न्यूज़ को इंटरव्यू दे दिया। अब ये सोचने पर मजबूर करता है की उन्होंने अपनी रेटिंग बढाने के लिए इंटरव्यू दिया या फिर ज़ी न्यूज़ की।”

Courtesy : Bolta Hindustan

        Loading…

Our Sponsors
Loading...