38,000 हजार में गीता की एक कॉपी खरीदने से बीजेपी की सरकार बेईमान कैसे हो सकती है !

154

मुझे लगता है पुरे विश्व में सबसे बड़ी ईमानदार पार्टी सिर्फ बीजेपी ही है. हरियाणा में बीजेपी सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाना बेमानी है क्योकि वही तो एक ऐसी पार्टी है जिसका हिन्दू देवी देवताओं का कापीराईट है अगर बीजेपी के हाथो गीता की एक कापी 38,000 हजार में दी गयी है तो क्या हुआ लेने और देने वालो को इससे भी ज्यादा महागा मांगना चाहिए था. खर्च को लेकर दाखिल की गई आरटीआई में कई चौंकाने वाली जानकारियां सामने आई हैं। इस महोत्सव पर सरकार ने 15 करोड़ से ज्यादा खर्च किए थे। सरकार ने जहां-जहां पैसा खर्च किया, उसके आंकडे आरटीआई से सामने आने के बाद विपक्ष ने इसमें बड़े घोटाले की बात कही है।

Image result for गीता की कीमत


38,000 में गीता की एक कॉपीआरटीआई के जरिए खुलासा हुआ है कि हरियाणा सरकार ने गीता की 10 कॉपियां वीआईपी लोगों को गिफ्ट करने के लिए खरीदी थीं। गीता की ये दस कॉपियां 3.8 लाख रुपए में खरीदी गईं। यानि एक गीता की कॉपी पर सरकार ने 38,000 हजार रुपए खर्च किए। वहीं बच्चों के रिफ्रेशमेंट के नाम पर सरकार 25 लाख से ज्यादा के खर्च की बात कह रही है। गीता के श्लोकोच्चारण में बुलाए गए 18000 स्कूली बच्चों के रिफ्रेशमेंट के लिए 25 लाख रूपए का खर्च दिखाया गया है।

Image result for गीता की कीमत

भाजपा सांसदों ने आने के लिए लिया था पैसा

आरटीआई में खुलासा हुआ है कि इस महोत्सव में अपनी प्रस्तुति देने के लिए भाजपा के सांसदों ने अपनी ही पार्टी की सरकार ने मोटी रकम ली थी। इस महोत्सव में आने के लिए हेमा मालिनी को 20 लाख और मनोज तिवारी को 10 लाख रुपए दिए गए थे। ये महोत्सव 25 नवंबर से 5 दिसंबर के बीच मनाया गया था। गीता जयंती में हुए खर्चों में कल्चरल प्रोग्रामों पर सबसे ज्यादा पैसा खर्च किया गया है। आंकड़े में करीब 20 कल्चरल प्रोग्राम पर लगभग 4 करोड़, 61 हजार रूपए खर्च किए गए हैं। गीता जयंती के दौरान इन्विटेशन कार्डों का खर्च 54,299 रूपए दिखाया गया है।


इंश्योरेंस पर खर्च किए छह लाख

कार्यक्रम में विजिटरों का इंश्योरेंस भी किया गया था। इस इंश्योरेंस के लिए करीब 5 लाख 90 हजार रूपए खर्च किए गए। ये बीमा यूनाईटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी ने किय। वहीं मैराथन रेस में इनाम बांटने के लिए खर्च की राशि 6 लाख 90 हजार रुपए दिखाई गई है। इस खुलासे पर हरियाणा इंडियन नेशनल लोकदल के नेता दुष्यंत चौटाला ने भी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि गीता की कॉपियां काफी सस्ते दाम पर ऑनलाइन और ऑफलाइन उपलब्ध हैं। ऐसे में साफ है, इसमें गड़बड़ हुई है और इसकी जांच हो।

        Loading…

Our Sponsors
Loading...