शिवसेना और भाजपा में ठनी, शिवसेना के इस क़दम से महाराष्ट्र में गिर सकती है बीजेपी सरकार, इनसे चल रही है वार्ता

331

महाराष्ट्र की राजनीति 180 डिग्री घूम सकती है,राज्य में अब तक एक दुसरे के खिलाफ चुनाव लड़ने वाली एनसीपी और शिवसेना एक दुसरे से हाथ मिला सकती है,बता दे दोनों पार्टियों के अध्यक्षों की मुलाक़ात के बाद महाराष्ट्र में राजनीति गर्म है। शरद पवार और उद्दव ठाकरे की मुलाक़ात के बाद राज्य में गहमागहमी है कि कहीं भाजपा सरकार गिर जा जाए।




नारायण राणे को लेकर शिवसेना और एनसीपी में ठनी

दिग्गज नेता नारायण राणे..!

शिवसेना की नाराज़गी कांग्रेस से भाजपा में आये नारायण राणे को लेकर है, भाजपा नारायण राणे को मंत्रिमंडल में शामिल करना चाहती है वही शिवसेना इसका विरोध कर रही है। दरअसल अपने राजनैतिक जीवन की शुरुआत शिवसेना से करने वाले नारायण राणे महाराष्ट्र के कोंकण हिस्से में एक प्रभावशाली नेता माने जाते है कोंकण एक समय शिवसेना का गढ़ था लेकिन राणे जब शिवसेना छोड़कर कांग्रेस में गये थे तभी शिवसेना कोंकण में कमज़ोर होती चली गयी। अब भाजपा शिवसेना के गढ़ कोंकण में अपनी पहुच बढाना चाह रही है ये बात शिवसेना के अध्यक्ष उद्दव ठाकरे भी भलीभांति समझ रहे है कि राणे को भाजपा में क्यों लाया जा रहा है?




उद्दव ठाकरे और शरद पवार की मुलाक़ात के बाद भाजपा सरकार पर संकट

उद्धव ठाकरे और शरद पवार..!

दोनों नेताओ की मुलाक़ात के बाद राज्य में नए चुनावी समीकरण बनने की आहत है, शरद पवार जो अब तक शिवसेना के द्वारा राज्य सरकार से समर्थन वापस लेने की स्थिति में भाजपा को समर्थन देने की बात कहते रहे है। उन्होंने भी अपना सुर बदल लिया है। अब उन्होंने कहा है कि अगर शिवसेना भाजपा से समर्थन वापस ले लेती है तो वो भाजपा को समर्थन नही देंगे।

        Loading…

भाजपा अकेले बहुमत से है दूर

महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडनवीस..!

महाराष्ट्र विधानसभा में 288 सीट है इसलिए सरकार बनाने के लिए 145 विधायको का समर्थन आवशयक है राज्य में भाजपा सबसे बड़ा दल है, भाजपा के पास 122 विधायक है,शिवसेना के विधायको की संख्या 63, एनसीपी की संख्या 41 और कांग्रेस के पास विधानसभा में 42 सीट है। इसलिए अगर एनसीपी और शिवसेना दोनों भाजपा को समर्थन नही देती है फिर राज्य सरकार संकट में आ सकती है।

Our Sponsors
Loading...