मोदी सरकार में खुनी दरिंदों को तिरंगे का सम्मान मिल रहा है और भारतीय सेनिकों की बेईज्ज़ती

362

वतन पर जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवां होगा यह गीत हर भारतीय को अपने देश पर मर मिटने की ताकत देता है। वतन के लिए जान देने वाले शहीदों को हिंदुस्तान का बच्चा-बच्चा इज्जत देता है। तभी इस देश में जय जवान जय किसान का नारा गूंजता है।

सरकारें शहीदों को इज्जत देती आई हैँ। लेकिन बीते रोज 8 शहीदों के शवों के साथ इस तरीके से पेश आया गया जिसके बाद सरकार पर सवाल उठने लगे हैं। जवानों के शवों को जमीन पर पड़ा रहने दिया गया। वहीं उनके शवों को ताबूत में नहीं बल्कि काजगी गत्तों व बोरियों में पैक किया गया।

दरअसल एक दुर्घटना में एयरफोर्स के 8 जवान शहीद हो गए थे। उनका शव सेना के अधिकारियों ने जब घर भेजा वो काफी शर्मनाक था। शहीदों के शवों को देखकर पूरे देश में गुस्सा बढ़ गया। राष्ट्रवाद औऱ देशभक्ति की बात करने वाली मोदी सरकार में सैनिकों की कदर बेइज्जती पर सवाल उठने लगे।

सोशल मीडिया पर एक सवाल देखने को मिला। लोगों ने लिखा कि, अख़लाक के हत्यारों को तिरंगे में लपेटा गया था लेकिन सैनिकों के शवों को बोरियों में, वाकई शर्मनाक है। आपको बता दें कि, गौमांस के शक में उत्तर प्रदेश के दादरी में अख़लाक अहमद को पीट-पीटकर पर मार डाला गया था। जिसके बाद उसके हत्यारों में एक ने आत्महत्या कर ली।

उसके हत्यारे को बीजेपी मंत्री की मौजूदगी में तिरंगे में लपेटा गया था।

Our Sponsors
Loading...