मीडिया पर नज़र : प्राइम टाइम शो में क्यों कचरा परोस रहा मीडिया ? वो बेतुके सवाल जो भाजपा के लिए फायदेमंद हो

318


पत्रकारिता की पढ़ाई में पढ़ाया जाता है की समाज के मुद्दे को जो ध्यान में रखेगा वो ही इस पेशे की कामयाबी हासिल कर पायेगा। मगर जब इन दिनों टीवी मीडिया को देखकर कम से कम ऐसा नहीं लगता।

टीआरपी की रेस में भागने वाले सभी चैनल जब डोनाल्ड ट्रम्प और हफीज सईद को प्राइम टाइम दिखाने लगे तो लगने लगता है की जनता को क्या दिखाया जा रहा बजाय इसके की वो दिखाना क्या चाहते है।






मीडिया पर नज़र में टीवी चैनलों पर होने वाली डिबेट पर एक नज़र देखकर अंदाज़ा लगाया जा सकता है मीडिया क्या दिखा रहा है और उसे दिखाना क्या चाहिए।

28 नबंवर 2017 दिन मंगलवार के प्राइम टाइम शो में टीवी मीडिया ने क्या-क्या दिखाया, आइए आपको बताते हैं

जी न्यूज़ ने प्राइम टाइम स्लॉट में फटाफट ख़बरें दिखाई गई। ख़बरों में गुजरात चुनाव से लेकरे पद्मावती तक के बारें में बताया गया। पत्रकार सुधीर चौधरी इन दिनों गुजरात पहुंचें हुए तो उन्होंने शो के शुरुआत में ही बता दिया कि, ये स्टूडियो नहीं है ये अहमदाबाद है। गुजरात चुनावों में अमित शाह के इंटरव्यू की बाते करते और डीएनए शो गुजरात चुनाव से शुरू होकर हाफिज सईद पर जाकर ख़त्म हो गया मानो ख़बरें सिर्फ आजकल पद्मावती,गुजरात चुनाव और हाफिज सईद में ही सिमट कर रह गई हो।

न्यूज़ 18 की बात करें तो टीआरपी की रेस में चौथे नंबर पर रहने वाल इस चैनल ने हम तो पूछेंगें डिबेट शो न करके सबसे बड़ा दंगल का शो किया। जिसमें कांग्रेस बीजेपी और संघ की तरफ से एक प्रवक्ता बैठे हुए थे। मूल मुद्दे के खोने जाने की बात करते हुए एंकर सुमित अवस्थी ने डिबेट का शीर्षक रखा हुआ था। अबकी बार, राम नाम पर बनेगी सरकार?

जैसे अयोध्या उत्तर प्रद्रेश में नहीं गुजरात में हो। पूरी बहस राम मंदिर के इर्द गिर्द घूमती रही और एक अर्थहीन डिबेट कर जनता को वही घिसा पीटा मुद्दा राम मंदिर बनाना चाहिए की नहीं इसी सवाल के बीच घूमता रहा।

इंडिया टीवी की बात की जाए तो इस चैनल ने प्राइम टाइम गुजरात चुनाव के नाम कर दिया। इंडिया टीवी चुनाव मंच पर बीजेपी प्रेसिडेंट से लेकर हार्दिक पटेल अपनी बात रखने आते रहे मगर प्राइम टाइम शो की जगह अमित शाह को दी गई। शाह जो हर चैनल में करीब करीब एक बात दोहराते आ रहे थे उन्होंने इंडिया टीवी के चुनावी मंच पर वही बात की जो आमतौर पर सारे खबरियां चैनलों से कहते आ रहे थे।

आज तक की बात करें तो इन दिनों ख़बरों दिखाने में कम और खबरों में रहने वालें रोहित सरदाना ने पूरा स्लॉट ग्लोबल आतंकी के टैग से छुटकारा से शुरू करते हुए चाहता है हाफिज़ सईद से शुरू करते हुए अमरीकी प्रेसिडेंट की बेटी पर पूरा प्राइम टाइम चला दिया गया।

वहीँ अंग्रजी खबरियां चैनल की बात करें तो रिपब्लिक इसी मुद्दे पर डिबेट चलती रही की क्या राहुल गाँधी ने पीएम मोदी को हिन्दू टेरर जोड़ रहे है? डिबेट में बीजेपी और कांग्रेस और धर्म के जानकर भी बैठाए गए थे।

एंकर अर्नब गोस्वामी पूरी डिबेट सब पर चीखते रहे और मौहौले की बहस जैसे इस पुरी डिबेट में ख़त्म हो गई।




टाइम्स नाउ पर सबसे बड़ी बहस रही अमेरिकी प्रेसिडेंट की बेटी इंवाका ट्रम्प पर कैसे उन्होंने पीएम मोदी की तारीफ की और कहा कैसे आप चाय बेचते कैसे मेहनत करके प्रधानमंत्री बने। फिर क्या टाइम्स नाउ ने इसी पर पुरी डिबेट ही रख ली।

बीजेपी कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता इस पर बहस करते रहे की पीएम मोदी के तारीफ का क्या मतलब है और इसी के साथ ही करीब करीब सारे खबरियां चैनलों ने जनता वक़्त ऐसे बर्बाद किया और जनता को राममंदिर से लेकर ट्रम्प की बेटी और हाफिज सईद पर ही सभी चैनलों ने ध्यान रखा।

Courtsey: Bolta Hindustan

        Loading…

Our Sponsors
Loading...