पाटीदारों से वोट लेकर उन्हें भूल जाती है भाजपा, केशुभाई, आनंदीबेन के बाद नितिन पटेल के साथ भी वही सुलूक : कांग्रेस

181

नितिन पटेल की नाराजगी ने गुजरात की सियासी गलियों में गर्मी पैदा कर दी है। आशंका तो यहां तक जताई जा रही कि गुजरात में तख्तापलट हो सकता है।

नितिन पटेल की भाजपा से नाराजगी पर गुजरात कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता मनीष दोशी का कहना है कि बीजेपी अपने वरिष्ठ नेताओं का अपमान करने के लिए कुख्यात है।



मनीष दोशी ने कहा कि ऐसा पहली बार नहीं हो रहा जब बीजेपी गुजरात में अपने वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार किया हो। बीजेपी का तो इस काम का इतिहास रहा है। बीजेपी ने 90 के दशक में अपने वरिष्ठ नेता केशुभाई पटेल को किनारे किया था, उसके बाद से तो सिलसिला ही कायम हो गया। नरोत्तम पटेल, आनंदीबेन पटेल और अब नितिन पटेल।

मनीष दोशी ने इस मुद्दें को एक और नया एंगल दिया है। मनीष दोशी का कहना है कि बीजेपी पटेलों के वोट से सरकार बना लेती है और फिर पटेलों को ही दरकिनार कर देती है। बीजेपी ने हमेशा से पटेलों का अपमान किया है।

बता दें कि सारा विवाद मंत्रालय के बंटवारे को लेकर हुआ है। डिप्टी सीएम नितिन पटेल विभागों के बंटवारे से खुश नहीं हैं। नितिन पटेल को गृह और शहरी विकास मंत्रालय चाहिये था लेकिन उन्हें इन मंत्रालयों से दूर रखा गया जिससे वो नाराज़ हैं।

हालांकि उन्हें सड़क एवं भवन, हेल्थ एवं फैमिली, नर्मदा, कल्पसार, चिकित्सा और शिक्षा विभाग की जिम्मेदारी दी गई है, लेकिन वो मंत्रालय नहीं दिए गए जिसकी उन्होंने मांग की थी।

        Loading…

Our Sponsors
Loading...