पकौड़ा बनाने को मिले राष्ट्रीय उद्योग का दर्जा. संबित पात्रा ने की मांग. मोदीजी हुए राजी!

399

दिल्ली : देश के युवाओं को पकौड़ा उद्योग की तरफ प्रेरित करने देने वाले देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्किल इंडिया के सपने को तब और बल मिल गया जब उन्हीं की पार्टी के प्रवक्ता और लगभग हर विषय के जानकर डॉक्टर संबित पात्रा ने उनके इस पकौड़ा क्रांति पर अपना पूर्ण समर्थन किया।

एक कार्यक्रम के दौरान कुछ IIT के छात्रों ने स्टार्टअप को लेकर जब डॉक्टर संबित पात्रा से पूछा तो उन्होंने बताया कि देश के युवाओं को स्टार्टअप के लिए पकौड़ा उद्योग से अच्छा सस्ता और टिकाऊ और कोई प्लान नहीं है।

डॉक्टर पात्रा ने बताया कि पकौड़ा कई मायने में क्रांतिकारी स्टार्टअप है. एक तो ये पूरी तरह से स्वदेशी प्रोडक्ट है. जिससे मेक इन इंडिया को बल मिलेगा। दूसरा इसको शुरू करने के लिए पैसे की ज्यादा जरूरत नहीं होती है. बस एक कढ़ाही, एक करछी, एक गैस सिलेंडर और चूल्हा. २ किलो बेसन आधा किलो प्याज़. और बिजनेस स्टार्ट!

(संबित पात्रा के समझाने के बाद इन छात्रों ने तुरन्त ज्वाइन किया पकौड़ा बिजनेस)

पात्रा जी ने आगे बताया कि मैं तो मोदीजी से ये भी मांग करने वाला हूँ कि वो पकौड़ा उद्योग को राष्ट्रीय उद्योग का दर्जा दें. ताकि लोगों में ऐसी भावना न आ सके कि ये छोटा काम है। इसे राष्ट्रीय रोजगार घोषित करने के बाद लोगों में झिझक नही होगी वो ख़ुशी ख़ुशी और गर्व के साथ पकौड़ा क्रांति में अपना सहयोग देंगे!

उधर सुनने में आया है कि डॉक्टर संबित पात्रा के इस सुझाव पर मोदीजी पूरी गम्भीरता से विचार कर रहे हैं, कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही पकौड़ा उद्योग को मोदी सरकार राष्ट्रीय उद्योग घोषित कर सकती है!

        Loading…

Our Sponsors
Loading...