निर्मोही अखाड़े ने किया खुलासा: ‘राम मंदिर के नाम पर विश्व हिन्दू परिषद ने किया 1400 करोड़ का घोटाला

200


राम मंदिर निर्माण के चंदे को लेकर विश्व हिंदू परिषद और निर्मोही अखाड़े के बीच विवाद हो गया है। निर्मोही अखाड़े ने विहिप पर संगीन आरोप लगाये थे। निर्मोही अखाड़े ने दावा किया कि राम मंदिर के नाम पर 1400 करोड़ रुपये का घोटाला किया गया है। हालांकि विश्व हिन्दू परिषद ने निर्मोही अखाड़े के इस आरोपों को बेबुनियाद और निराधार बताया है।




मीडिया से वार्ता में निर्मोही अखाड़े के संत सीताराम ने कहा कि रामलला यानि निर्मोही अखाड़ा और निर्मोही अखाड़ा यानि रामलला। उन्होंने कहा “जितने फर्जी न्यास बने हैं वो मुसलमानों को ताकत देने में लगे है, संत सीताराम ने आरोप लगाते हुए कहा कि विश्व हिन्दू परिषद् ने राम मंदिर निर्माण के नाम पर घर-घर जाकर ईंट मांगी और पैसे दान में लिया। 1400 करोड़ रुपये का चंदा ये लोग खा गये।

        Loading…

उन्होंने कहा, “हम लोग राम के पुत्र हैं। सेवक हैं। हमको पैसे की पेशकश नहीं हुई कभी भी। नेताओ ने पैसे खा लिए।” संतराम यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा,” इसी पैसे से सरकार बनाई। योगी जी ने भी कह दिया कि हमारी ओर से पहल नहीं है।श्री राम के नाम पर सरकार बनाई है, और अब पीछे हट रहे है।”

वहीं विहिप की तरफ से इन आरोपों का खंडन करते हुए विनोद बंसल ने कहा कि राम मंदिर के लिए विश्व हिन्दू परिषद् ने कभी किसी से एक पैसा नहीं लिया। 1964 से विहिप आस्तित्व में आई है और हर साल संस्था ऑडिट करवाती है हमारे पास एक-एक पैसे का हिसाब है। गौरतलब है कि ये कोई पहला मौका नही है जब भगवा संघठन पर किसी ने करप्शन के आरोप लगाये है इससे पहले भी विपक्षी दल ऐसे आरोप लगा चुके है।

Our Sponsors
Loading...