देश कलाम की प्रतिमा के पास रखा गया भगवत गीता, विवाद हुआ तो कुरान और बाइबल भी रखा गया

600

नई दिल्ली। 27 जुलाई, 2017 को देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की दूसरी पुण्यतिथि थी। इस मौके पर तमिलनाडु के रामेश्वरम में कलाम की एक प्रतिमा का अनावरण किया गया था। कलाम के गृहनगर पीकारुंबू में बने इस लकड़ी के प्रतिमा में कलाम वीणा बजाते दिखाया गया है। साथ ही प्रतिमा के पास भगवत-गीता भी रखा गया था जिसपर विवाद शुरू हो गया है। बाते दें कि इस प्रतिमा का अनावरण खुद प्रधानमंत्री मोदी ने किया था।

मुख्य बातें-

  1. कलाम को भगवा करने की कोशिश कर रही है बीजेपी- वाइको
  2. कलाम की प्रतिमा के पास रखा गया भगवत-गीता
  3. विवाद बढ़ा तो भगवत-गीता के साथ-साथ रखा बाइबल और कुरान  

 

खबर के मुताबिक, विवाद बढ़ने के बाद अब कलाम के प्रतिमा के आगे गीता के साथ-साथ आनन-आनन में कुरान और बाइबल भी रख दिया गया है। 27 जुलाई को पीएम ने पूर्व राष्ट्रपति के गृह नगर में उस जगह पर बने स्मारक को देशवासियों को समर्पित किया जहां मिसाइल मैन के पार्थिव शरीर को दफनाया गया था।

तमिलनाडु के रामेश्वरम में देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की दूसरी पुण्यतिथि के मौके पर एक प्रतिमा का अनावरण किया गया था. लेकिन इस प्रतिमा के आगे भगवत-गीता रखे होने से विवाद शुरू हो गया है, जिसके बाद आनन-आनन में प्रतिमा के आगे अब कुरान और बाइबल भी रख दी गई है। इस प्रतिमा के अलावे रामेश्वरम में कलाम की समाधि के पास एक स्मारक भी बनवाया गया है जिसका अनावरण भी प्रधानमंत्री मोदी की।

वैज्ञानिक सोच के पोषक कलाम के प्रतिमा के पास गीता रखे जाने पर एमडीएमके नेता वाइको ने बीजेपी पर आरोप लगया की पार्टी कलाम को भगवा रंग में रंगने की कोशिश कर रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कलाम के स्मारक को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन ने करीब 16 करोड़ रुपये खर्च करके एक साल में तैयार किया है।


Pc- narendramodi.in

Our Sponsors
Loading...