‘जेल की हवा खा चुके और सोनिया को फेसबुक पर गाली देने वाले IAS-IPS कराएंगे गुजरात चुनाव’

629


नई दिल्लीः गुजरात चुनाव में दागी अफसरों की ड्यूटी लगाने का मामला सामने आ रहा है। इसमें जहां दो आईपीएस अफसर सोहराबुद्दीन मुठभेड़ में जेल की हवा खा चुके हैं तो एक आईएएस अफसर सोशल मीडिया पर सोनिया गांधी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी कर चुके हैं। जिस पर कांग्रेस ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर इन तीनों अफसरों को चुनाव ड्यूटी से हटाने की मांग की है।

मिलिए इन दागी अफसरों से

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव दीपक बाबरिया और गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव इकबाल शेख, कानूनी सेल के अध्यक्ष योगेश रवानी ने गुजरात के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से मुलाकात की।  उन्होंने तीन दागी अधिकारियों को मतदान ड्यूटी से हटाने की मांग की।

उन्होंने कहा कि आईएएस महेंद्र पटेल को प्रमोशन देकर सूरत के जिला मजिस्ट्रेट यानी डीएम की तैनाती दी गई। जबकि पटेल ने अपने फेसबुक पेज पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ व्यक्तिगत टिप्पणी भी की थी। अंदेशा है कि ऐसे अधिकारी की देखरेख में निष्पक्ष चुनाव संभव नहीं है। बाबरिया ने कहा, “पटेल सीधे तौर पर बीजेपी से जुड़े हुए हैं और उन्होंने उझा विधानसभा सीट से बीजेपी से टिकट भी मांगा था।”

इसके अलावा कांग्रेस ने जूनागढ़/पोरबंदर में आईजी रेंज के पद पर तैनात आईपीएस अधिकारी राजकुमार पंडियन और को हटाने की मांग की है। पंडियन इससे पहले पोरबंदर के एसएसपी रह चुके हैं और सोहराबुद्दीन फर्जी मुठभेड़ मामले में कई साल जेल में रह चुके हैं। कांग्रेस ने उन्हें मतदान प्रक्रिया से दूर रखने की मांग की है।

इसके अलावा कांग्रेस ने आईजी रेंज के पद पर तैनात एक और आईपीएस अधिकारी अभय चुड़ासम को भी हटाने की मांग की है। अभय चुडासम भी सोहराबुद्दीन फर्जी मुठभेड़ केस और इशरत जहां केस में शामिल रहे हैं और कई साल जेल काट चुके हैं। कांग्रेस का कहना है कि ऐसे अधिकारियों की चुनावी प्रक्रिया में मौजूदगी से निष्पक्षता पर शक होता है। इसलिए इन्हें तुरंत हटाया जाए।

मुख्य चुनाव आयोग को मामला रेफर

कांग्रेस नेताओं की अर्जी को गुजरात के मुख्य चुनाव अधिकारी बी बी स्वाईं ने स्वीकार कर उसे मुख्य चुनाव आयोग के पास दिल्ली भेज दिया है। गुजरात में दो चरणों में चुनाव है। पहले दौलगार का मतदान तीन दिन बाद यानी 9 दिसंबर और दूसरे दौर का मतदान 14 दिसंबर को होगा। इनपुट-नवजीवन

        Loading…

Our Sponsors
Loading...