जज लोया के चाचा बोले- प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दबाव में था अनुज, चाहता हूँ कि मौत की जांच हो

495

स्वर्गीय सीबीआई जज बीजे लोया के चाचा श्रीनिवास लोया ने कहा है कि जज लोया के बेटे अनुज लोया मुंबई प्रेस कॉन्फ्रेंस में शायद दबाव में थे। गौरतलब है कि अनुज लोया ने रविवार को अपने पिता जज लोया की संदिग्ध मौत को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेस की थी जिसमें उन्होंने कहा था कि उनके पिता की मौत को लेकर उन्हें कोई शक नहीं है।

बता दें, कि लोया सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले को देख रहे थे। इस मामले में मुख्य आरोपी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह थे। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामलें की कार्रवाई गुजरात से बाहर करने का आदेश दिया था जिसके बाद ये मामला सीबीआई अदालत में आया।



यहाँ इस मामले को देख रहे पहले न्यायाधीश उत्पत ने अमित शाह को मामले की कार्रवाई में उपस्थित न होने को लेकर फटकार लगाई थी। लेकिन अगली तारीख से पहले ही उनका ट्रान्सफर हो गया।

इसके बाद बृजगोपाल लोया आये, उन्होंने भी अमित शाह के उपस्थित न होने पर सवाल उठाए और सुनवाई की तारीख 15 दिसम्बर 2014 तय की लेकिन 1 दिसम्बर को ही उनकी मौत हो गई। इसके बाद न्यायधीश एमबी गोसवी आये, जिन्होंने दिसम्बर 2014 के अंत में ही अमित शाह को इस मामले में बरी कर दिया।

जज लोया की बहन ने द कैरावन पत्रिका को दिए गए इंटरव्यू में लोया की मौत पर शक जताया था।

श्रीनिवास लोया ने द कैरावन पत्रिका के साथ बातचीत में ये भी कहा कि वो चाहते हैं कि जज लोया की मौत को लेकर एक जांच कराई जाए।

श्रीनिवास ने बताया कि प्रेस कॉन्फ्रेस में अनुज के साथ मौजूद वकील अमीत नैक का भी कहना है कि अनुज अभी काफी छोटा है और उसपर दबाव था। गौरतलब है कि अनुज लोया की उम्र 21 साल है।

अनुज लोया पर किस तरह का दबाव हो सकता है ये पूछे जाने पर श्रीनिवास ने कहा कि अनुज के दादा 85 साल के हैं। उसकी माँ भी वहीं हैं। अनुज की बहन की शादी भी करीब आ रही है। इस सब के कारण उसपर दबाव हो सकता है।

जज लोया के करीबी दोस्त वकील बलवंत यादव भी कह चुके हैं कि वो लोया के परिवार को काफी समय से जानते हैं और अभी परिवार राजनीतिक दबाव में है। लोया के परिवार वाले अमित शाह को बचाने के लिए चुप हैं।

बता दें, कि जज लोया की मौत की जांच के लिए याचिका दायर हो चुकी है। सुप्रीम कोर्ट में उसपर आज सुनवाई हो सकती है।

Courtesy : Bolta Hindustan

        Loading…

Our Sponsors
Loading...