गुजरात चुनाव में इस्तेमाल होने वाली 138 VVPAT मशीनों में मिली गड़बड़ी, कहीं EVM भरोसे तो नहीं BJP ?

2168

विपक्ष यूपी चुनाव के बाद से ही बीजेपी पर लगातार ईवीएम मशीन से छेड़छाड़ का आरोप लग रहा है। दिल्ली के एमसीडी चुनाव में भी अरविंद केजरीवाल ने ईवीएम से छेड़छाड़ की बात कही थी। कई जगह ईवीएम में गड़बड़ी पायी भी गयी थी।

        Loading…

गुजरात चुनाव को भी लेकर सोशल मीडिया पर पहले से ही ये आशंका जतायी जा रही थी कि बीजेपी चुनाव जीतने के लिए ईवीएम से छेड़छाड़ करवाएगी। बीते रोज चुनाव आयोग ने गुजरात विधानसभा चुनाव का एलान कर दिया है।

चुनाव आयोग ने बताया कि गुजरात चुनाव दो चरणों में 9 और 14 दिसंबर को होंगे। इस बार वोटिंग के लिए वीवीपैट (VVPAT) मशीनों का इस्तेमाल होगा।

और संयोग से कल ही मतदान के लिए चुने गए 138 VVPAT मशीनों में गड़बड़ी पायी गई है। इन VVPAT का इस्तेमाल गुजरात के सुरेंद्रनगर जिला में किया जाना था।

फिलहाल इन VVPAT मशीनों को वापस बैंगलोर की कंपनी में भेज दिया गया है। वीवीपैट मशीनों को काफी सुरक्षित बताया जाता है लेकिन इस तरह की गड़बड़ी सामने आने से वीवीपैट की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठाने लगे हैं।

वीवीपीएटी मशीनें क्या हैं और ये कैसे काम करती हैं?

वोटर वेरीफ़ाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल यानी (VVPAT) एक तरह की मशीन होती है, जिसे ईवीएम के साथ जोड़ा जाता है।

इसका फायदा यह होता है कि जब कोई भी शख्स ईवीएम के जरिए अपना वोट देता है तो वोटिंग के तुरंत बाद VVPAT से काग़ज़ की एक पर्ची प्रिंट होकर निकलती है। इस पर्ची पर उस उम्मीदवार का नाम और चुनाव चिह्न छपा होता जिसे वोट दिया गया होता है।

Our Sponsors
Loading...