खट्टर सरकार का फरमान, सरकारी टीचर लें पुजारी की ट्रेनिंग नहीं तो होगा सख्त एक्शन

249

हरियाणा की खट्टर सरकार ने सरकारी टीचरों को लेकर एक फरमान लागू कर दिया है। इस फरमान के जरिए अब सरकारी टीचरों को पुजारी बनने की ट्रेनिंग लेनी होगी। अगर कोई टीचर इस फरमान को नहीं मानता तो उसके खिलाफ प्रशासन सख्त एक्शन भी लेगा।

हरियाणा सरकार का यह फरमान इसलिए सुनाया गया है कि ताकि हर साल लगने वाले प्रसिद्ध एंव प्राचीन मेले कपाल मोचन के मंदिरों में सरकारी टीचर पुजारी की भूमिका निभाएं और मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं को प्रसाद भी बांटे।

पुजारी की ट्रेनिंग का फरमान मिलने के बाद जिले के अध्यापक सरकार से नाराज है और इस फरमान को तुगलगी फरमान बता रहें हैं।

वहीं जो टीचर इस ट्रेनिंग में नहीं गया उनके लिए प्रशासन ने एक लेटर जारी कर दिया जिसमें यह बताया गया है कि जो भी टीचर इस फरमान को नहीं मानेगा या आदेश का पालन नहीं करेगा उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

इस फरमान के बाद जिले के टीचरों का कहना है कि सरकार उनके साथ गलत कर रही है। साथ ही इसके खिलाफ प्रदेशभर में आंदोलन करने की धमकी भी दे रहें हैं।

टीचरों का कहना है कि पहले ही हरियाण में शिक्षा का स्तर लगातार नीचे जा रहा है, बच्चों की पढ़ाई समय पर पूरी नहीं हो पाती जिसके कारण साल का रिजल्ट काफी खराब आता है। यह सब सरकार के नए नए नियमों के कारण होता है क्योंकि सरकार हर साल किसी ना किसी काम में लगा देती है।

बता दें कि इससे पहले भी कई बार खट्टर सरकार टीचरों को लेकर कई फरमान सुना चुकी है जिनमें खेत की पारली को जलने से रोकने के लिए उसकी निगरानी का काम और मंदिरों में पूजा पाठ का काम आदि करवाती रही है।

ऐसे में सवाल उठाता है कि जब सरकार ही टीचरों को इन सब कामों में लगवा देगी तो देश का भविष्य बन रहे बच्चों के भविष्य पर कैसा असर पड़ेगा?

Our Sponsors
Loading...