कहीं 40 % तो कहीं 36% बढ़ गए वोटर, क्या अब फर्जी वोटरों के सहारे गुजरात जीतना चाहती है भाजपा!

276

गुजरात में कुछ विधानसभा सीटों पर वोटर लिस्ट में वोटरों की संख्या असामान्य बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। चुनाव आयोग के अनुसार साल 2012 में के मुकाबले और अभी में इतना फर्क है कि राज्य में करीब 18 विधानसभा सीटों पर वोटरों की संख्या में 20 प्रतिशत या उससे ज्यादा की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।




चुनाव आयोग की वोटर लिस्ट जो की इसी साल 25 सितंबर जारी की गई थी। जिनमें कच्छ, मेहसाणा, साबरकंठा, गांधीनगर, अहमदाबाद, राजकोट, जामनगर, आनंद और सूरत जैसे जिले शामिल है। और इन्ही सीटों पर वोटरों की संख्या बढ़ी है।

जारी वोटर लिस्ट के अनुसार पिछले 5 सालों में सबसे ज्यादा जहां वोटर बढ़े है वो कामरेज सीट है। 2012 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर 3.04 लाख वोटर थे जो हाल की जारी लिस्ट के अनुसार  4.26 लाख वोटर हो चुके है, यानी लगभग 40% बढ़ोतरी हुई है ।




यहां से बीजेपी के मौजूदा विधायक प्रफुलभाई छगनभाई पंशेरिया है। सूरत की बात की जाये तो सूरत पूर्वी और सूरत उत्तरी सीट पर वोटरों की संख्या में 5.27 प्रतिशत से 3.17 प्रतिशत की वोटरों का इजाफा देखा गया है।

सूरत के चोरयासी और ओलपाद विधान सीटों में वोटरों की 33 प्रतिशत से 36 प्रतिशत हुई है। कुछ इसी तरह का वटवा विधान सभा सीट भी है जहां पिछले विधानसभा चुनाव में करीब दाई लाख वोटर थे अब यहां 3.01 लाख वोटरों का इजाफा देखा गया है।

        Loading…

पिछले 5 सालों में कुल मिलाकर इन सीटों पर 14 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। इसके पीछे की वजह एक और मानी जा रही है कि चुनाव आयोग अभी मतदाता सूची में नाम शामिल करने के लिए अभियान चला रहा है इसलिए  बढ़ोतरी आम बात है। मगर इस तरह के आकड़े चौका रहे है।

मुख्यमंत्री ,उप-मुख्यमंत्री की सीटों पर भी वोटरों की संख्या में भी इजाफा 

जिन 18 विधान सीटों पर मतदाताओं की संख्या में सामान्य से अधिक बढ़ोतरी हुई है उनमें राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपानी और उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल की विधान सभा सीटें भी शामिल हैं। विजय रूपानी की राजकोट पश्चिम सीट पर वोटरों की संख्या में करीब 20 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। वहीं नितिन पटेल की मेहसाणा विधान सभा के वोटरों में करीब 19 प्रतिशत की बढ़ोतरी  हुई है।

इस मामलें पर गुजरात के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) बीबी सवाईं ने कहा, “मुझे हैरत नहीं है। तेजी से शहरीकृत हो रहे शहरों में वोटरों की संख्या में तेज बढ़ोतरी सामान्य बात है।

वहीँ गुजरात कांग्रेस के प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने वोटरों की आसामान्य बढ़ोतरी पर कहा कि चुनाव आयोग को जांच करनी  चाहिए और देखने चाहिए कि नए मतदाता वास्तविक हैं या नहीं।

गुजरात की राजनीती को करीब से देखने वालों का मानना है कि उत्तरी गुजरात का साबरकंठा में 19 प्रतिशत वोटरों की बढ़तोरी की व्याख्या आसान नहीं। इसकी पड़ताल होनी चाहिए कि कहीं वोटर जान कर तो नहीं बढ़ा दिए गए क्योकिं जो 5 सीटों पर वोटरों का सबसे ज्यादा इजाफा हुआ है। वहां से बीजेपी हमेशा से जीती आई है। ऐसे में शक होना लाजमी है कि ऐसा सिर्फ गुजरात की सिर्फ 5 सीटों पर ही क्यों देखा गया है।

बता दें कि गुजरात में कुल 182 विधान सभा सीटें हैं। राज्य में विधान सभा चुनाव के लिए नौ दिसंबर और 14 दिसंबर को मतदान होगा। नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे।

Courtesy: Bolta Hindustan

Our Sponsors
Loading...