एमपी में किसानों को सब्सिडी के नाम पर सामने आया शिवराज सरकार का चार हजार करोड़ का घोटाला

302

आम आदमी पार्टी की मध्यप्रदेश यूनिट ने CM शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाये है। आप मध्यप्रदेश के संयोजक आलोक अग्रवाल ने कल एक प्रेस वार्ता कर प्रदेश की बीजेपी सरकार पर आरोप लगाया प्रदेश में किसानों को सब्सिडी देने के नाम पर 4000 करोड़ रुपये का घोटाला हुआ है।

आम आदमी पार्टी मध्यप्रदेश के संयोजक आलोक अग्रवाल ने कहा कि हाल ही में राज्य सरकार ने किसानों को कृषि पम्पों के लिए 8,400 करोड़ रुपये की सब्सिडी देने की घोषणा की है। ये सब्सिडी कृषि पम्पों के लिये उपयोग की जाने वाली 2,075 करोड़ यूनिट बिजली के लिए दी गयी है, जबकि आंकलन से पता चलता है कि किसानों द्वारा मात्र 1,063 करोड़ यूनिट बिजली वास्तविक रूप से खर्च की जा रही है।

शेष 1,000 करोड़ यूनिट बिजली किसानों के नाम पर चोरी की जा रही है और इस 1,000 करोड़ यूनिट के लिये दी जाने वाली 4,000 करोड़ रुपये की सब्सिडी में घोटाला हुआ है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस सब्सिडी का उपयोग यदि किसानों की कर्ज माफी या फसल का उचित दाम देने में किया जाता तो आत्महत्या करने वाले सैकड़ों किसानों का जीवन बच सकता था।

आप ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से सवाल किया कि किसानों के नाम पर दी जाने वाली 1,000 करोड़ यूनिट बिजली कहां जा रही है और इस पर दी जाने वाली 4,000 करोड़ रुपये की सब्सिडी का उपयोग किसके लिये किया जा रहा है। अग्रवाल ने कहा कि इस सच्चाई को जन-जन तक पहुंचाया जायेगा।

आपको बता दे कि, इससे पहले मध्य प्रदेश में सबसे बड़ा घोटाला व्यापम घोटाला भी सामने आ चूका है। व्यापमं भर्ती घोटाला मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा भर्ती घोटाला माना जाता है, इस घोटाले कई बड़े नाम सामने आए जिनमें कुछ लोग तो सलाखों के पीछे पहुंच चुके हैं।

 

इस घोटाले में आरोप लगे थे कि, साठगांठ कर मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले में फर्जीवाड़ा कर भर्तियां की गईं। इस घोटाले के अंतर्गत सरकारी नौकरियों में भ्रष्टाचार कर रेवड़ियों की तरह नौकरियां बांटी गईं। दरअसल मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल का काम मेडिकल टेस्ट जैसे पीएमटी प्रवेश परीक्षा, इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा व शैक्षिक स्तर पर बेरोजगार युवकों के लिए भर्ती के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं का आयोजन कराना है।

Our Sponsors
Loading...