अरबों रुपये के घोटालों का खुलासे करने वाले IPS का भी योगी सरकार ने किया तबादला!

411

लखनऊ. योगी सरकार एक ओर प्रदेश में कानून-व्यवस्था सुधारने की बात कर रही है, वहीं दूसरी ओर ईमानदार और अपराधियों व अपराध की नब्ज़ पकड़ने वाले अधिकारियों के तबादले करने में जुटी है। यूपी में पेट्रोल पंपों पर हो रही अरबों रुपये की घटतौली जैसे बड़े सिंडिकेट का पर्दाफाश करने वाले आईपीएस का भी तबादला कर दिया गया है। मंगलवार को जारी हुई 41 आईपीएस अधिकारियों के तबादले की लिस्ट में एसएसपी अमित पाठक का नाम भी शामिल था।

 http://allpoliticalnewsindia.com/students-washing-bartan-after-cm-yogi-visit-in-hapur-school/


पेट्रोल पंप घटतौली का खुलासा
यूपी एसटीएफ ने अप्रैल महीने में सालों से चल रहे अरबों रु

पये के पेट्रोल-डीजल घटतौली के सिंडिकेट का पर्दाफाश किया था। इसमें एसएसपी एसटीएफ अमित पाठक की भूमिका मुख्य थी। अमित पाठक ने सबसे पहले इस घटतौली सिंडिकेट के एक मकैनिक को पड़ा और 28 अप्रैल की देर रात छापेमारी कर लखनऊ के करीब सात पेट्रोल पंप पर हो रही घटतौली का बड़ा खुलासा किया। इसके बाद लगातार पूरी प्रदेश में एसटीएफ के खुलासे के बाद छापेमारी शुरु हुई। इससे पूरे यूपी में कई पेट्रोल पंप पर घटतौली पकड़ी गई। साथ ही इन्हें सीज किया गया। वहीं योगी सरकार ने उल्टा इस मामले की जांच से एसटीएफ को दूर रखने की कोशिश की। लेकिन यह मुद्दा इतना गरमा गया कि हाईकोर्ट ने भी प्रदेश सरकार को फटकार लगाई। साथ ही एसटीएफ को भी पूरे मामले से जुड़ी जांच समिति में शामिल करने के लिए कहा था।

3700 करोड़ के घोटाले का भांड़ाफोड़
एसटीएफ ने ही 3700 करोड़ रुपये का घोटाला करने वाली एब्लेज इंफो सॉल्यूशंस नाम की कंपनी और उसके अधिकारियों का खुलासा किया था। इस मामले में अमित पाठक ने काफी सक्रिय भूमिका निभाई थी। उनके नेतृत्व में कंपनी के निदेशक अनुभव मित्तल सहित कई लोगों को गिरफ्तार किया गया। जो सारा बिजनेस समेट कर देश छोड़ भागने की फिराक में थे। इस कंपनी ने निवेशकों से सोशल साइट पर लिंक क्लिक करने और उस पर पैसे कमाने के नाम पर 3700 करोड़ रुपये ठग लिए थें।

बचाव के लिए यहां किया तबादला?
एसटीएफ एसएसपी अमित पाठक का योगी सरकार ने तबादला कर गोरखपुर भेज दिया है। दरअसल अमित पाठक को एसटीएफ से हटाकर गोरखपुर का एसएसपी बनाया गया है। पाठक को गोरखपुर का एसएसपी बनाए जाने पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं कि योगी सरकार ने उन्हें कई बड़े मामलों की जांच से हटाकर सीएम के मूल क्षेत्र में तैनाती दे दी। ताकि इससे डैमेज कंट्रोल किया जा सके।

Our Sponsors
Loading...