अब सपा की आंधी में भी उड़ी भाजपा,पंचायत चुनाव में यहाँ भी करारी हार

424

बरेली-प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद भाजपा सरकार आते ही अलग अलग जिलो में जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रताव लाकर हटाने की कोशिशे चल रही है.एक्का दुक्का ज़गह को छोड़कर भाजपा ने इसमें कामयाबी भी पाई है.दरअसल अधिकतर जिलो में सपा के जिला पंचायत अध्यक्ष है जिस पर भाजपा से जुड़े नेता काबिज़ होने की कोशिश कर रहे है.

ऐसी ही कोशिश में बरेली में भी मौजूदा जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लागा गया लेकिन इस अविश्वास प्रस्ताव की ऐसी दुर्गति हुई जिसे
भाजपा ने सपने में भी नही सोचा होगा.बरेली में सपा के संजय सिंह जिला पंचायत अध्यक्ष है,उन्ही के खिलाफ भाजपा अविश्वास प्रस्ताव लायी थी लेकिन वो अपनी कुर्सी बचाने में कामयाब रहे जिसके बाद सपा में जश्न का माहौल है.

सपा के सूत्रों का कहना है,भाजपा की कोशिश में प्रशासन भी उनके साथ था लेकिन अब जनता में मूड बदला हुआ है लोग योगी सरकार से नाराज़ है इसी लिए जिला पंचायत सदस्य भाजपा के बहकावे में नही आये.भाजपा की मांग पर अविश्वास प्रस्ताव को लेकर प्रशासन ने 28 अक्टूबर की तारीख निर्धारित की थी,लेकिन जब अविश्वास पर वोटिंग हुई तो भाजपा के अविश्वास प्रस्ताव पर कोई सदस्य भी साथ नही आया.

बरेली जिला पंचायत में 60 सदस्य है और अविश्वास के लिए 31 सदस्यों का पक्ष में मतदान करना ज़रूरी था लेकिन सपा के जिला पंचायत संजय सिंह के पक्ष में अधिकतर सदस्य खुले तौर पर साथ थे इस वजह से जो सदस्य भाजपा को समर्थन का आश्वासन दे रहे थे वो भी बिदक गये.

अविश्वास प्रताव गिरने के वजह से भाजपा की जिले में खूब किरकरी हुई है,कुछ भाजपा नेताओ ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि बिना रणनीति के जल्दबाजी में की गयी ये कोशिश थी इस वजह से वो सफल नही हुए,कुछ नेता अध्यक्ष बनने के लिए जल्दबाजी में थे और इनकी वजह से पार्टी को शर्मिंदगी झेलनी पड़ी.

Our Sponsors
Loading...